सुप्रीम कोर्ट ने गौतम नवलखा को दी राहत, भीमा कोरेगांव हिंसा मामले में जमानत पर रिहा किया


Supreme Court gives relief to Gautam Navlakha, released on bail in Bhima Koregaon violence case

बीते साल दिसंबर में बॉम्बे हाईकोर्ट ने भी गौतम नवलखा को जमानत पर रिहा करने का आदेश दिया था। हालांकि जांच एजेंसी एनआईए की अपील पर हाईकोर्ट ने अपने आदेश पर ही तीन हफ्तों के लिए रोक लगा दी थी। 5 जनवरी को सुप्रीम कोर्ट ने हाईकोर्ट के आदेश पर जारी स्टे को अपने अगले आदेश तक जारी रखने का निर्देश दिया था।

सुप्रीम कोर्ट ने भीमा कोरेगांव मामले में एक्टविस्ट गौतम नवलखा को जमानत दे दी है। सुप्रीम कोर्ट ने गौतम नवलखा की उम्र को ध्यान में रखते हुए और मामले में जारी ट्रायल के जल्द पूरा न होने को देखते हुए गौतम नवलखा को जमानत देने का फैसला किया। कोर्ट ने ये भी कहा कि इस मामले में अन्य आरोपियों को भी जमानत दी जा चुकी है। कोर्ट ने कहा कि नवलखा चार साल से भी ज्यादा समय से जेल में बंद हैं और इस मामले में अभी तक आरोप तय नहीं किए गए हैं। ऐसे में मुकदमे में लगने वाले लंबे समय को देखते हुए कोर्ट ने नवलखा को जमानत दे दी।

हाईकोर्ट से मिल चुकी थी जमानत
सुप्रीम कोर्ट ने गौतम नवलखा को उनके घर पर नजरबंदी के दौरान उनकी सुरक्षा पर खर्च हुए 20 लाख रुपये के भुगतान का भी आदेश दिया। गौतम नवलखा को एल्गार परिषद मामले में 14 अप्रैल 2020 को गिरफ्तार किया गया था। इसके बाद बीते साल नवंबर में सुप्रीम कोर्ट ने उन्हें नवी मुंबई स्थित उनके घर में नजरबंद रखने का आदेश दिया था। बीते साल दिसंबर में बॉम्बे हाईकोर्ट ने भी गौतम नवलखा को जमानत पर रिहा करने का आदेश दिया था। हालांकि जांच एजेंसी एनआईए की अपील पर हाईकोर्ट ने अपने आदेश पर ही तीन हफ्तों के लिए रोक लगा दी थी। 5 जनवरी को सुप्रीम कोर्ट ने हाईकोर्ट के आदेश पर जारी स्टे को अपने अगले आदेश तक जारी रखने का निर्देश दिया था।

20 लाख रुपये का भुगतान करने का आदेश
सुप्रीम कोर्ट ने गौतम नवलखा को घर पर नजरबंदी के दौरान उनकी सुरक्षा पर खर्च हुए 20 लाख रुपये का भुगतान करने का भी आदेश दिया है। बीती 9 अप्रैल को सुनवाई के दौरान सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि गौतम नवलखा मुंबई पुलिस को सुरक्षा के बदले 1.64 करोड़ रुपये का भुगतान करने से नहीं बच सकते क्योंकि नवलखा ने ही उन्हें घर पर नजरबंद रखने की अपील की थी। गौतम नवलखा और अन्य पर 31 दिसंबर 2017 को पुणे में एल्गार परिषद के सम्मेलन में भड़काऊ बयानबाजी करने का आरोप है। पुलिस का आरोप है कि गौतम नवलखा और अन्य के भड़काऊ भाषण के चलते ही परिषद के सम्मेलन के अगले दिन भीमा कोरेगांव युद्ध स्मारक पर हिंसा भड़की। हिंसा के मामले में 16 लोगों को गिरफ्तार किया गया था, जिनमें से पांच फिलहाल जमानत पर बाहर हैं।

Related Posts

मालेगांव विस्फोट मामला: कोर्ट की चेतावनी के बाद पेश हुईं प्रज्ञा ठाकुर

Malegaon blast case: Pragya Thakur appeared after court’s warning, used thumb impression instead of signing महाराष्ट्र के नासिक जिले में स्थित मालेगांव में 29 सितंबर, 2008 को एक मस्जिद के…

महाराष्ट्र में मतदान प्रतिशत कम, इस राज्य में हो रही सबसे ज्यादा वोटिंग

Voting percentage is low in Maharashtra, maximum voting is happening in this state दुनिया के सबसे बड़े लोकतांत्रिक महोत्सव की शुरुआत 19 अप्रैल को हो गई थी। आज इस महोत्सव…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You Missed

प्रदेश में नर्सिंग कॉलेज फर्जीवाड़े मामले में दिल्ली सीबीआई की एफआईआर में बड़ा खुलासा

प्रदेश में नर्सिंग कॉलेज फर्जीवाड़े मामले में दिल्ली सीबीआई की एफआईआर में बड़ा खुलासा

भारत में इलाज कराने आए बांग्लादेश के सांसद लापता

भारत में इलाज कराने आए बांग्लादेश के सांसद लापता

300 से ज्यादा लोग संक्रमित ,भारत में पैर पसार रहा कोरोना का नया वेरिएंट

300 से ज्यादा लोग संक्रमित ,भारत में पैर पसार रहा कोरोना का नया वेरिएंट

अभी गर्मी से नहीं मिलेगी राहत, मौसम विभाग ने जारी किया कई राज्यों में रेड अलर्ट

अभी गर्मी से नहीं मिलेगी राहत, मौसम विभाग ने जारी किया कई राज्यों में रेड अलर्ट

एमपी ओपन बोर्ड की परीक्षा आज से. पाकिस्तान से लौटी गीता, एग्जाम देने पहुंची…

एमपी ओपन बोर्ड की परीक्षा आज से. पाकिस्तान से लौटी गीता, एग्जाम देने पहुंची…

मुख्यमंत्री डॉ मोहन यादव ने किर्गिस्तान में रह रहे प्रदेश के विद्यार्थियों से की बात

मुख्यमंत्री डॉ मोहन यादव ने किर्गिस्तान में रह रहे प्रदेश के विद्यार्थियों से की बात