नर्मदापुरम के सेठानीघाट पर हुई घटना, तैरते समय हादसे का शिकार हो गए मामा-भांजे

नर्मदापुरम
ग्राम मरोड निवासी दो किशोर जो कि रिश्ते में भामा-भांजे थे, नर्मदा में तैरते समय हादसे का शिकार हो गए। दोनों किशोर नर्मदापुरम के एक हास्टल में रहकर पढ़ाई कर रहे थे। सोमवार शाम को दोनों किशोर सेठानीघाट पर पहुंचे थे। इसी दौरान तैरते-तैरते घाट से करीब पांच सौ मीटर दूर तक पहुंच गए। कुछ देर रुकने के बाद दोनों वहां से तैरकर वापस सेठानीघाट की ओर आ रहे थे, इसी दौरान दोनों की सांस फूल गई और गहरे पानी में डूब गए। सेठानीघाट पर मौजूद होमगार्ड के जवान तुरंत मौके पर पहुंचे और दोनों युवकों को बाहर निकाला और अस्पताल पहुंचाया, जहां दोनों को मृत घोषित कर दिया गया।
 
एक माह में डूबने की कई घटनाएं
सिटी कोतवाली से प्राप्त जानकारी के अनुसार डूबने वाले अनिल पाल व पियूष पाल हैं। दोनों रिश्ते में मामा- भांजे थे। पिछले एक माह में डूबने की लगातार घटनाएं हुई हैं। सेठानीघाट पर छह लोग हादसे का शिकार हो चुके हैं। इसके अलावा अन्य घाटों पर घटनाएं हुई हैं।

होमगार्ड के जवान घाट पर तैनात
विवेकानंद घाट पर भी रविवार शाम को इटारसी निवासी युवक डूब गया था। होमगार्ड जवानों को नर्मदा घाटों पर तैनात किया गया है, कुछ घाटों पर सख्ती भी की गई हैं, लेकिन इसके बाद भी लोग घाटों पर पहुंच रहे हैं।

admin

Related Posts

योग को दिनचर्या का अभिन्न अंग बनाने की अपील की

भोपाल उप मुख्यमंत्री श्री राजेंद्र शुक्ल ने कहा है कि प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में भारत ने योग को विश्व स्तर पर पहचान दिलाने के लिए महत्वपूर्ण कदम…

पीडीए ने ध्वस्त किया अशरफ की पत्नी जैनब के आलीशान मकान

प्रयागराज उमेश पाल हत्याकांड में कई महीनों के बाद माफिया अतीक अहमद के कुनबे के मकान पर फिर बुलडोजर गरजा है। यह कार्रवाई माफिया अतीक अहमद के भाई खालिज अजीम…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

धर्म

कलियुग के 10,000 वर्षों के बाद क्या होगा? ब्रह्मवैवर्त पुराण की भविष्यवाणियां

कलियुग के 10,000 वर्षों के बाद क्या होगा? ब्रह्मवैवर्त पुराण की भविष्यवाणियां

आषाढ़ में कब रहेगी गुप्त नवरात्रि, जाने महत्व और पूजा विधि

आषाढ़ में कब रहेगी गुप्त नवरात्रि, जाने महत्व और पूजा विधि

गुरुवार 20 जून 2024 का राशिफल

गुरुवार 20  जून 2024 का राशिफल

जुलाई में इस दिन से शुरू होंगे शुभ मुहूर्त, कर सकेंगे जनेऊ, मुंडन, गृह प्रवेश; सिर्फ 8 दिन बजेगी शहनाई

जुलाई में इस दिन से शुरू होंगे शुभ मुहूर्त, कर सकेंगे जनेऊ, मुंडन, गृह प्रवेश; सिर्फ 8 दिन बजेगी शहनाई

सपने में मृत्यु देखना: क्या है इसका मतलब? जानें विस्तार से

सपने में मृत्यु देखना: क्या है इसका मतलब? जानें विस्तार से

बुधवार 19 जून 2024 का राशिफल

बुधवार 19 जून 2024 का राशिफल